Sambodhi App Sambodhi App
  +91-8742004849     books@jvbharati.org

Book Detail

Author: Acharya Mahapragya
Category: Vichar Sahitya
Released: 1992
Language: Hindi
Pages: 64
Qty:
  Out Of Stock

5 (Inclusive all of Taxes)
प्रज्ञा स्वयं आलोक है। वह दूसरे को आलोकित करती है। इसलिए कहा जाता है प्रज्ञा का आलेाक। प्रज्ञा जागरण के लिए आवश्यक है- तपस्या, साधना, अनुशासन और निष्ठा।
Customer Reviews