Sambodhi App Sambodhi App
  +91-8742004849     books@jvbharati.org

Book Detail

Kalyan Mandir Anthsthal Ka Sprash (कल्याण मन्दिर अन्तःस्थल का स्पर्श)

Author: Acharya Mahapragya
Category: Srot Vivechan Sahitya
Released: 2014
Language: Hindi
Pages: 256
Qty:
  Out Of Stock

130 (Inclusive all of Taxes)
भारतीय अध्यात्म परम्परा में परमात्मा और सगुरू की भक्ति/स्तुति को बहुत महत्त्व दिया गया। वस्तुतः परम के प्रति समर्पण और एकनिष्ठ प्रेम की अभिव्यक्ति ही भक्ति है। अध्यात्म की इसी पवित्र भूमिका पर सतोत्र एवं स्तुति काव्यों की रचना हुई। कल्याण मन्दिर सोत्र की रचना भी इसी भाव-भूमि पर की गई।
Customer Reviews